मंगलवार, 11 नवंबर 2014

तन्हाई / Tanhai

तन्हाई

अपनी धुन में था मैं तन्हाई में नहीं
वो मेरे साथ हरदम रही दिल में कहीं

Apni dhun mein tha main tanhai mein nahi
Vo mere saath hardam rehi dil mein kahin

रुस्वा समझ कर मुझको हमदर्द आ गये
मैंने कहा भैया मजे में हूँ जाओ और कही

Ruswa samajh ker mujhko hamdard aa gaye
Maine kaha bhayya meje mein hoon jaao aur kahin

------शिवराज-----

एक टिप्पणी भेजें