सोमवार, 29 दिसंबर 2014

काश


जैसे कुछ न मिला हो पाकर भी बहुत कुछ ।
काश एक तू मिलता और कुछ न मिलता ।
---शिवराज----
एक टिप्पणी भेजें