बुधवार, 17 दिसंबर 2014

पेशावर हादसे पर तालिबान को


ये क्या कुकृत्य किया
तेरी आत्मा क्या मर गयी
देख कर ये द्रश्य आज
मौत भी सिहर गयी
हैवानियत की हद से आगे
आज तू निकल गया
दर्द मिला दुनियां को
अरे तुझको क्या मिल गया
हर आँख नम हुई
हर होंठ सील गया
हर मुट्ठी कस गयी
हर चेहरा भींच गया
हर एक मासूम जो
कल खुदा के घर गया
तेरा विनाश करना है
ये ही कह कर गया
शर्मसार है हम यहाँ
जो इतना कुछ घट गया
शिक्षा का एक मंदिर
लाशों से पट गया
तेरी हिम्मत यूं हुई
की आदमी था बंट गया
देख कर दरिंदगी
लेकिन अब सिमट गया
खैर तू मना ले अब
तेरा अंत है निकट
साथ है अब सारी दुनियां
बस अब तू तो गया
~~~शिवराज~~~
एक टिप्पणी भेजें