शनिवार, 6 दिसंबर 2014

मेरे दिल के खिड़की दरवाज़े तो तब से बंद हैं
जब से अंदर आकर उसने कुंडी लगा दी थी
~~~~~शिवराज~~~~~~~
एक टिप्पणी भेजें