सोमवार, 8 दिसंबर 2014

कुछ बातें



पूछा जो मुझसे किसी ने बता क्या तेरे ख्वाब हैं ।
मैं बोला ख्वाब में भी वही है जिनके मुझे ख्वाब हैं ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
मुझसे पुछा जो किसी ने क्या तुम्हारे ख्वाब हैं ।
हँसते हुए कहा अब ख्वाब ही तो मेरे ख्वाब हैं ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
शिवराज
एक टिप्पणी भेजें