शनिवार, 13 दिसंबर 2014

जीवन का सफ़र



जीवन एक यात्रा है ।
दुःख तो इस बात का है
ये ऐसी यात्रा जैसे की
भारतीय रेल में होती है ।
जहाँ महीन रह जाता है ।
सफ़र और सफर (suffer) का अंतर
अगर जीवन एक सैर होती
तो शायद अच्छा रहता ।
किसी हरे भरे बाग़ में जैसे
सुबह की ताज़गी भरी सैर ।
~~~~~~शिवराज~~~
एक टिप्पणी भेजें