गुरुवार, 27 अगस्त 2015

वफ़ा और ज़फ़ा




अपने ही दग़ा करते है 
अपने ही ज़फ़ा करते हैं
और जो वफ़ा करते है 
वो अपने हो जाते हैं 
अपने ही ख़ुशी लाते हैं 
अपने ही तड़पाते हैं 
__शिवराज___
एक टिप्पणी भेजें