सोमवार, 17 अगस्त 2015

बदलाव


निश्चित ही
हम बदलना चाहते है ।
निश्चित ही
हम देश को भी बदलना चाहते हैं ।
हाँ हम सब ।
अपनी -अपनी
सहूलियतों के हिसाब से
सब कुछ बदलना चाहते है ।
क्योंकि सब की सहूलियतें
अलग अलग है ।
इस लिए सब आपस में संघर्षरत है
और देश एक तरफ अलग थलग है ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
शिवराज ~~
एक टिप्पणी भेजें