शुक्रवार, 21 अगस्त 2015

अकेलापन


बहुत उदास हूँ अकेला हूँ 
दुनियां सर पे बिठाती है 
मगर मेरी उदासी, 
कहाँ देख पाती है 
वो तो बस मेरी 
सफलता की साथी है 
गम,दुःख-दर्द तो 
मैं साथ तेरे झेला हूँ 
कहाँ है तू के आज मैं 
बहुत उदास हूँ अकेला हूँ 
----शिवराज

एक टिप्पणी भेजें