सोमवार, 17 अगस्त 2015

देश भक्ति का फैशन


देश भक्ति का फैशन
नया नहीं है पुराना है 
इसको एक साल में 
दो बार तो
आना ही आना है 
बाकी तो वही सारा
रिश्वत का अस्मत का
फ़साना है 
न बदला है कुछ,
न बदलेगा 
बस साल बदल जाना है 
~~~~~~~~~~~~~~~~~~
इस दिली इच्छा के साथ की 
अगले साल तक कुछ तो बदले ।
---शिवराज----
एक टिप्पणी भेजें