सोमवार, 13 अक्तूबर 2014

वक़्त के बारे में /Vaqt ke baare mein

वक़्त से दोस्ती की कोशिश छोड़ दी मैंने ।
Vaqt se dosti ki koshish chod di maine.
पल पल रंग बदलता है इसके क्या कहने।
Pal pal rang badalta hai iske kya kehne
खामोश रहकर मासूमो पे जुल्म ढाता है ।
khamosh rehker maasoomon pe julm dhata hai
कभी सारे जहाँ में शोर कर इज्जत गिरता है  ।
Kabhi saare jahan mein shor ker ijjat girata hai.
समझने, परखने ,लड़ने और बदलने की ।
Samajhne ,parakhne,ladne aur badalne ki
अपनी सारी की सारी जिदें लो छोड़ दी मैंने ।
Apni saari ki saari jiden lo chod di maine.
---------------------------------------------------------
वक़्त से हारा हूँ जब मुझको गुमान होता है ।
Vaqt se haara hoon jab mujhko gumaan hota hai
याद आता है तब जो बड़ो का कहा होता है ।
Yaad aata hai jo badon ka kaha hota hai
जैसे वो बात की "समय बड़ा बलवान" होता है ।
Jaisee ki vo baat ke samay bada balwan hota hai
पर एक नई बात भी मेरी समझ में आई है ।
Par ek nai bast bhi meri samajh mein aaiyi hai
ये लगता है वक़्तअमीरी का बड़ा भाई है ।
Ye lagta hai hai vaqt amiri ka bada bhai hai
और गरीबों की इससे कोई तो लड़ाई है ।
Aur gareebon ki isse koi to ladai hai
भोले भाले समझते है ये साथ खड़ा होता है ।
Bhole-bhale samajhte hai ye saath khada hota hai
--------–-------------------------------------------------------
किसके वक़्त का कहो कैसे पता चलता है ।
Kiske vaqt ka keho kaise pata chalta hai
बड़ा धोकेबाज़ है ये हाथ से फिसलता है ।
Bada dhokhebaaz hai ye haath se fisalta hai
अपनी पे आजाये तो ये भाग्य को बदलता है ।
Apni pe aa jaye to ye bhagy ko badlta hai

Esa bhi hota hai kabhi ye bach ke nikalta hai
इतना तुम जान लो ये अगर साथ होता है ।
Itna tum jaan lo ye agar saath hota hai
चाहे निरा गधा ही हो पर सर पे ताज़ होता है ।
Chahe nira gadha hi ho par sar pe taz hita hai.
************शिवराज************
एक टिप्पणी भेजें