रविवार, 26 अक्तूबर 2014

इश्क के बारे में / Ishq ke Baare Mein

गम,दर्द,बैचनी इश्क की सौगाते हैं ।
Gum,dard baichani ishq ki saugaate hain
जानते हैं फिर भी,लोग मरे जाते हैं ।
Jaante hai fir bhi log mare jaate hain
राह कांटो भरी पर समझे मसखरी ।
Raah kaantobhari par samjhe maskhari
जल्दबाजी में नंगे पैर दौड़े जाते हैं ।
Jaldbaazi mein nange pair daude jaate hain
ये इश्क है ज़रा देखो और परखो इसे ।
Ye ishq hai zara dekho aur parkho ise
गर्म दूध पीने से भी होंठ जल जाते हैं ।
Garm doodh peene se bhi honth jal jaate hain
इश्क भरोसे की चीज़ ही नहीं होती ।
Ishq bhorase ki cheez hi nahi hoti
कभी दिल, कभी हालत बदल जाते हैं ।
Kabhi dil, kabhi haalat badal jaate hain
जानता हूँ सीख देना बड़ा आसान हैं ।
Jaanta hoon seekh dena bada aasan hain
जवानी में अक्सर अरमान मचल जाते हैं ।
Jawani meinaksar arman machal jaate hain
मैं उन लोगो का कायल हूँ बहुत दोस्तों।
Main un logon ka kaayal hoon bhaut dosto
एक धोखे से ही जो संभल जाते हैं ।
Ek dhokhe se hi jo sambhal jaate hain.
+---------Shivraj---------+
+---------शिवराज------------+




एक टिप्पणी भेजें