बुधवार, 15 अक्तूबर 2014

Khyal Mere / ख्याल मेरे

प्यार का समंदर है
Pyar ka samandar hai
मेरे दिल के अन्दर है
Mere dil ke andar hai
मेरे बारे में सब पूछते है 
Mere baare mein sab poochte hain
ये कौन मस्त कलंदर है
Ye kaun mast kalandar hai
बादल बन के ख़ुशी बरसाऊँ
Baadal ban ke khushi barsaaoon
ये ख्याल कितना सुन्दर है
Ye khyal kitna sundar hai
जो लूट ले गया मेरा दिल
Loot le gaya mera dil
वो ही दिल के अन्दर है
Vo hi dil ke andar hai
जो सबको अपना बना सके
Jo sabko apna bana sake
वो ही आज का पुरंदर है
Vo hi aaj ka purandar hai.
मैं जहाँ में तलाश करता नहीं
main jahan mein talash kerta nahin
एक सकून मेरे अन्दर है 
Ek sakoon mere andar hai
*******शिवराज********





एक टिप्पणी भेजें