बुधवार, 22 जुलाई 2015

दूरियाँ

दिल की तमाम दूरियाँ मिटा दी उसने 
मेरी मुहब्बत इस तरह सजा दी उसने 
पाना उसको अब ज़रूरी है ही नहीं 
दीवानो सी हालात मेरी बना दी उसने 
---शिवराज---
एक टिप्पणी भेजें