मंगलवार, 13 जनवरी 2015

अंजाम


सज़दे में सर झुकाया ये अंजाम हो गया ।
एक पल में उसका दिल पाषाण  हो गया ।
आँख भर सी आयी जब उसकी बात पर ।
मासूमियत से पुछा अब तुझे क्या हो गया ।

****शिवराज******
एक टिप्पणी भेजें