बुधवार, 2 सितंबर 2015

गम और ख़ुशी -Love and happiness

ख़्वाब, प्यार, वादा, वफ़ा, के कौन है दुश्मन ।
ये है बेबसी, गरीबी,धोखा, तन्हाई और जुदाई ।
बस नसीब का खेल है और कुछ नहीं प्यारे
किसी को गम मिला तो किसी ने ख़ुशी पाई ।
----शिवराज---
एक टिप्पणी भेजें