शनिवार, 7 फ़रवरी 2015

बाज़ीगरी



हवा में कुछ ऊंचाई पर
सिर्फ एक छड़ी के संतुलन से
रस्सी पे चलने की बाजीगरी
आती है उन बच्चों को ।
जिन कदम स्कूल तक
जा नहीं पाये कभी ।
तालियां बजाओ उनके लिए ।
मगर ये शानदार खेल
कभी ख़त्म हुआ ही नहीं ।
----शिवराज------
एक टिप्पणी भेजें