शनिवार, 13 जून 2015

मैं शायर नहीं हूँ


मैं शायर नहीं हूँ, बस ऐसा लगता है दोस्तों ।

के मेरी बातों में दर्दे दिल झलकता है दोस्तों ।

तुम छुपा जाते हो दर्द, या है ही नहीं कोई ।

मैं तो दिखा देता हूँ मेरे सारे ज़ख्म दोस्तों ।

----शिवराज--------

एक टिप्पणी भेजें