शनिवार, 7 मार्च 2015

होली


लाल गुलाबी रंगो की होली खूब मनाई आप ने ।
क्या कभी दिल की कालिख भी हटाई आप ने ।

कितना गहरा रंग लगाया लेकिन उतर जाएगा ।
ता उम्र खिली रहती जो होती प्रीत लगाई आप ने ।

क्या त्यौहार मनाना सिरफ़ एक दिन के वास्ते ।
सीख़ अग़र बच्चों को इनकी न सिखाई आप ने 
---शिवराज------

एक टिप्पणी भेजें